देवउठनी एकादशी 2017: ये है पूजा का शुभ मुहूर्त, विधि और महत्व

10/31/2017 2:56:04 PM
img

आषाढ़ माह की एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है और कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी के नाम से जाना जाता है. हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान रखता है. हर साल 24 एकादशियां होती हैं. जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी गीनती बढ़कर 26 हो जाती है.

आषाढ शुक्ल एकादशी को देव-शयन हो जाने के बाद से शुरू हुए चातुर्मास का समापन कार्तिक शुक्ल एकादशी के दिन देवोत्थान-उत्सव होने पर होता है. इस दिन घरों में गन्ने की पूजा के साथ तुलसी-विष्णु की विवाह के लिए मंडप सजाया जाता है. इस दिन ही मां तुलसी का विवाह भगवान सालिगराम (विष्णु जी) के साथ होता है, जिसके लिए पुराणों में एक कहानी भी है. कहा जाता है कि भगवान विष्णु जी भी इस दिन चार माह के शयन के बाद उठते हैं इसलिए इसे देवउठनी के नाम से जाना जाता है.

आज एकादशी की तिथि शाम 6 बजकर 55 मिनट तक है इसलिए इस दौरान ही तुलसी विवाह हो जाना चाहिए. पारण करने का शुभ समय 1 नवंबर को सुबह 06 बजकर 37 मिनट से शुरु होकर सुबह के 08 बजकर 48 मिनट तक रहेगा.

जानते हैं कैसे करें पूजा...

प्रभु विष्णु को 4 महीने की योग-निद्रा से जगाने के लिए घण्टा, शंख, मृदंग आदि वाद्यों की मांगलिक ध्वनि के बीच ये श्लोक जोर-जोर से बोलकर जगाते हैं:

उत्तिष्ठोत्तिष्ठगोविन्द त्यजनिद्रांजगत्पते। त्वयिसुप्तेजगन्नाथ जगत् सुप्तमिदंभवेत्॥

उत्तिष्ठोत्तिष्ठवाराह दंष्ट्रोद्धृतवसुन्धरे। हिरण्याक्षप्राणघातिन्त्रैलोक्येमङ्गलम्कुरु॥

जिन्हें संस्कृत नहीं आती वो लोग हिंदी में भी प्रार्थना कर सकते हैं: उठो देवा, बैठो देवा कहकर श्रीनारायण को उठाएं. श्रीहरि को जगाने के बाद उनकी आराधना करें. संभव हो तो व्रत रखें अन्यथा केवल एक समय फलाहार ग्रहण करें. इस एकादशी में पूरी रात जागकर हरि नाम-संकीर्तन करने से भगवान विष्णु अत्याधिक प्रसन्न होते हैं.

Similar Post You May Like